आंखों की जलन और ड्राइनेस से है परेशान? तो इस्तेमाल करें यह आयुर्वेदिक उपाय

कुछ लोगों को अपनी आंखों में जलन और ड्राईनेस की शिकायत रहती है। हालाँकि लोग इस जलन और दर्द से छुटकारा पाने के लिए आई ड्रॉप्स का सहारा भी लेते हैं। लेकिन कभी-कभी इन आई ड्रॉप्स का हमारी आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ने लगता है। और हमारी आंखों की रोशनी कमजोर होने लगती है। इन सब चीजों से छुटकारा पाने के लिए जरूरी है कि आप कुछ आयुर्वेदिक उपायों की मदद लें। क्योंकि आयुर्वेद में आंखों की रोशनी बढ़ाने और जलन, ड्राइनेस को खत्म करने के कई सारे सरल और प्राकृतिक तरीकों का बखान किया गया है। आज हम आपको कुछ ऐसे ही तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी मदद से आप अपनी आंखों की परेशानियों को आयुर्वेदिक उपायों की मदद से दूर कर सकेंगे।

आंवले का सेवन

आंवले की मदद से ना सिर्फ आप अपने बालों की चमक बढ़ा सकते हैं बल्कि आंखों की रोशनी को भी तेज कर सकते हैं। आंवले मैं मौजूद विटामिन-सी और एंटीऑक्सीडेंट आपकी दृष्टि में सुधार कर सकते हैं। आंवले में मौजूद विटामिन-सी रेटिना कोशिकाओं की मरम्मत करने का काम करता है। यही नही यदि आप आंवले के रस को आधा कप पानी में मिला दें। और दो बार इसका सेवन करें तो आप अपनी आंखों की दृष्टि को दुरुस्त कर पाएंगे।

बादाम है गुणकारी

बादाम में मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड, विटामिन- ए और एंटीऑक्सीडेंट आपकी दृष्टि को दुरुस्त करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। बादाम की मदद से आपके स्मरण शक्ति और एकाग्रता में तो सुधार होता ही है साथ ही यदि आप एक गिलास दूध के साथ बदाम के पेस्ट का सेवन करें तो आप कुछ ही महीनों में अपने आंखों में सकारात्मक बदलाव महसूस करेंगे।

सौफ से करें मोतियाबिंद की शिकायत को दूर

सौंफ की मदद से आप अपनी मोतियाबिंद की प्रगति को धीमा करने का काम कर सकते हैं। सौंफ में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट आपकी आंखों की रोशनी को भी दुरुस्त करने में मददगार हैं। यदि आप सोने से पहले एक चम्मच सौंफ के चूर्ण को एक गिलास दूध के साथ पीते है और अपने डेली लाइफ स्टाइल में शामिल करते हैं तो आप अपने आंखों में कई प्रकार के बदलाव होते देखेंगे।

आंखों के व्यायाम का करें अभ्यास

यदि आप अपने डेली रूटीन में आंखों के व्यायाम को खास तवज्जु देंगे तो आपकी आंखें अधिक लचीली बनेंगी। साथ ही आपके ब्लड सरकुलेशन में भी सुधार होगा इन सभी क्रियाओं के फलस्वरुप आपकी आंखों पर तनाव कम होगा। जिसकी वजह से आपकी एकाग्रता शक्ति में भी सुधार आएंगा।

जंगली शतावरी है आयुर्वेद का रामबाण नुस्खा

आयुर्वेद में यूं तो कई जड़ी बूटियों का उल्लेख किया गया है लेकिन यदि जंगली शतावरी की बात की जाएं तो यह आखों की रोशनी में सुधार करने के लिए सबसे श्रेष्ठ जड़ी बूटी मानी जाती है। यदि आप इसका सेवन रोजमर्रा की जिंदगी में करते हैं तो आपको आंखों की तमाम समस्याओं से छुटकारा मिल जाएगा जंगली शतावरी का सेवन आपको केवल एक कप दूध के साथ करना होगा

Whatsapp पर शेयर करें

Comments are closed.