इन चीजों पर 28 दिनों तक जिंदा रह सकता है कोरोना वायरस, बढ़ी चिंता

 

कोरोना वायरस पर दुनिया भर के शोधकर्ताओं की खोज जारी है. इस बीच ऑस्ट्रेलिया की नेशनल साइंस एजेंसी सीएसआईआरओ (CSIRO) ने कोरोना वायरस को लेकर नया दावा किया है. सीएसआईआरओ का कहना है कि एक नियंत्रित वातावरण में वायरस अधिक समय तक संक्रमित रहता है. ये स्टडी वायरोलॉजी जर्नल में प्रकाशित की गई है.

सीएसआईआरओ के शोधकर्ताओं ने पाया कि 20 डिग्री सेल्सियस (68 डिग्री फ़ारेनहाइट) पर SARS-COV-2 वायरस मोबाइल फोन स्क्रीन, नोट्स और कांच जैसी चिकनी सतहों पर 28 दिनों तक संक्रामक रहता है. इसकी तुलना में इन्फ्लुएंजा ए वायरस सतह पर 17 दिनों तक जिंदा रहता है

Whatsapp पर शेयर करें

स्टडी के प्रमुख शोधकर्ता शेन रिडेल ने कहा, ‘ये स्टडी वास्तव में हाथ धोने, सेनेटाइजिंग और वायरस के संपर्क में आए सतह को साफ रखने के महत्व को और बढ़ाती है.’ इसके लिए सतह पर कोरोना वायरस के मरीजों के सूखे हुए बलगम के सैंपल की तरह कृत्रिम बलगम पर स्टडी की गई, जिसमें ये एक महीने के बाद वायरस से मुक्त पाए गए.

20, 30 और 40 डिग्री सेल्सियस पर किए गए प्रयोगों से पता चला कि ये वायरस ठंडे तापमान पर लंबे समय तक जिंदा रहता है. असमान सतह की तुलना में चिकनी सतह और प्लास्टिक बैंकनोट्स की तुलना में पेपर नोट पर वायरस लंबे समय तक जिंदा रहता है. पराबैंगनी प्रकाश के प्रभाव को दूर करने के लिए ये सभी प्रयोग अंधेरे में किए गए थे, क्योंकि शोध से पता चला है कि सीधी धूप इस वायरस को मार सकती है.

शोधकर्ताओं ने कहा कि शरीर के तरल पदार्थों में पाया जाने वाला प्रोटीन और वसा भी बॉडी में वायरस की समयसीमा को बढ़ा सकते हैं. इस स्टडी से मीट पैकिंग फैसिलिटी जैसे ठंडे वातावरण और वायरस की अनुकूलता को समझने में मदद मिल सकती है. हालांकि अन्य देशों की तुलना में ऑस्ट्रेलिया ने कोरोना वायरस पर अच्छा नियंत्रण किया है.

तापमान और कोरोना वायरस के संबंध पर पहले भी कई स्टडीज की जा चुकी हैं. वहीं कई एक्सपर्ट्स का कहना है ठंड के मौसम में कोरोना वायरस के मामले पहले से ज्यादा आ सकते हैं.

Whatsapp पर शेयर करें

Comments are closed.