कृष्ण जन्माष्टमी पर इस तरह करे कृष्ण का,…..

हमारे शास्त्रों के अनुसार श्रीकृष्ण का जन्म भाद्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। इस बार के पंचांग के मुताबिक़ अष्टमी तिथि 23 अगस्त को सुबह 8.09 बजे से 24 अगस्त को सुबह 8.32 बजे तक है। ऐसे में इस बार रोहिणी नक्षत्र 24 अगस्त को तड़के 3.48 बजे से शुरू होगा और ये 25 अगस्त को सुबह 4.17 बजे उतरेगा। इसी वजह से दो दिन जन्माष्टमी का त्यौहार मनाया जाने वाला है।

इस तरह करें कृष्णा का श्रृंगार:

# मेष राशि- इस राशि के जातकों को श्रीकृष्ण का श्रृंगार लाल वस्त्र से करना चाहिए क्योंकि मेष राशि का स्वामी मंगल है। इस राशि के लोग आज भगवान श्री कृष्णा को मिश्री का भोग लगाएं।

# वृषभ राशि- इनके स्वामी शुक्र है और इन राशिवालों को भक्तों को चांदी के रंग का या फिर चटक सफेद रंग से श्रृंगार करना चाहिए। इसी के साथ माखन का भोग लगाए।

# मिथुन राशि- इस राशि के जातकों को हरे रंग से कान्हा का श्रृंगार करना चाहिए। इस राशि के स्वामी बुध हैं और बुध को हरा रंग प्रिय है।

# कर्क राशि- इस राशि के जातकों को सफेद रंग से कान्हा का श्रृंगार करना चाहिए और दूध चढ़ाना चाहिए।

# सिंह राशि- इस राशि के जातकों को श्रीकृष्ण का लाल और गुलाबी रंग के वस्त्र से श्रृंगार करना चाहिए और मक्खन का भोग लगाना चाहिए।

# कन्या राशि- इस राशि के जातकों को कान्हा को हरे रंग के वस्त्र से सजाना चाहिए और मावे और दही का भोग लगाना चाहिए।

# तुला राशि- इस राशि के लोगों को सफेद वस्त्र का इस्तेमाल भगवान के श्रृंगार में करना चाहिए और घी और दही का भोग भगवान को लगाना चाहिए।

# वृश्चिक राशि- इस राशि के लोगों को भगवान को लाल रंग के वस्त्र पहनाने चाहिए और मक्खन और मिश्री का भोग कान्हा को जरूर लगाएं।

# धनु राशि- इस राशि के लोगों को पीले वस्त्र से कान्हा का श्रृंगार करना चाहिए और पीले रंग से बनी मिठाई उन्हें चढ़ानी चाहिए।

# मकर राशि- इस राशि के जातकों को पीले और लाल रंग का अत्यधिक इस्तेमाल भगवान के श्रृंगार में करना चाहिए और कन्हैया को मिश्री का भोग लगाना चाहिए।

# कुंभ राशि- इस राशि के लोगों को नीले रंग या श्याम रंग के वस्त्र से भगवान को संवारना चाहिए और बालूशाही और दही का भोग लगाना चाहिए।

# मीन राशि- इस राशि के लोगों को भगवान को पीले रंग का वस्त्र पहनने चाहिए और पीले रंग की मिठाई अर्पित करना चाहिए।

Comments are closed.