कोरोना वायरस है या वायरल फीवर ? ऐसे पता करें दोनों के बीच अंतर

 

भारत सहित पूरे देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कोहराम जारी है और आलम तो यह है कि देश में अब रोजाना 90 हजार से अधिक कोविड-19 (COVID-19) पॉजिटिव मामले सामने आ रहे हैं. कोरोना काल में सर्दी-जुकाम (Cough And Cold) और बुखार (Fever) जैसे मामलों को काफी गंभीरता से लिया जा रहा है, क्योंकि थोड़ी सी भी लापरवाही मरीज के साथ-साथ उसके परिवार वालों के लिए खतरनाक साबित हो सकती है. हालांकि हर बुखार कोरोना वायरस संक्रमण का लक्षण नहीं हो सकता है, क्योंकि आमतौर पर बदलते मौसम के साथ-साथ लोगों को सर्दी-जुकाम और वायरल फीवर (Viral Fever) की समस्या होती है, लेकिन कोरोना संकट (Corona Crisis) की घड़ी में अधिकांश लोग यह नहीं समझ पाते हैं कि वे सामान्य वायरल फीवर से परेशान हैं या फिर कोरोना संक्रमण के कारण उन्हें फीवर आया है? हालांकि आप आसानी से दोनों के बीच के अंतर को जान सकते हैं

आमतौर पर बदलते मौसम के साथ अधिकांश लोगों को सर्दी-जुकाम और वायरल फीवर की शिकायत होती है. कई बार यह समस्या 3-4 दिनों में ठीक हो जाती है और इसके लक्षण भी आम ही होते हैं, लेकिन अगर आपको कोरोना संक्रमण के कारण फीवर हुआ है तो इसके लक्षण भी थोड़े अलग होंगे. इतना ही नहीं संक्रमण में साधारण दवा से आराम भी नहीं मिलता है. अगर आपको सामान्य फीवर और सर्दी-जुकाम हुआ है तो इस तरह के लक्षण दिख सकते हैं. 

Whatsapp पर शेयर करें

सामान्य बुखार के लक्षण

नाक का बहना, हल्का बलगम, शारीरिक थकान, छींक आना, आंखों से पानी आना, गले में खराश और सिरदर्द की समस्या हो सकती है. सामान्य सर्दी-जुकाम और बुखार 7 से 10 दिन में ठीक हो जाता है.

कोविड-19 बुखार

कोरोना वायरस को लेकर वैज्ञानिक लगातार शोध कर रहे हैं और इसके नए-नए लक्षण भी सामने आ रहे हैं. हालांकि सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना, खांसी, गले में खराश, सिरदर्द, बदन दर्द, बुखार, ड्राई बलगम इत्यादि कोरोना संक्रमण के सामान्य लक्षणों में शामिल हैं. बुजुर्गों और बच्चों के इस महामारी की चपेट में आने की संभावना अधिक होती है.

इसके अलावा जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है, उनके लिए यह संक्रमण जानलेवा साबित हो सकता है. गले में खराश, नाक बहना, साइनस कंजेशन और सांस लेने में तकलीफ कोविड-19 के आम लक्षण हैं. अगर आपको ऐसे लक्षण नजर आते हैं तो खुद को घर में क्वारेंटाइन कर लें और सरकार के दिशानिर्देशों का पालन करें. 

ऐसे पता करें दोनों के बीच का अंतर

अगर आप सामान्य वायरल फीवर और कोविड-19 फीवर के बीच के अंतर को जानना चाहते हैं तो दिन में तीन से चार बार 15-20 सेकेंड के लिए अपनी सांस रोककर रखें. इस दौरान अगर आपको किसी तरह की दिक्कत नहीं होती है और खांसी व छींक नहीं आती है तो इसका अर्थ है कि आपको सामान्य फीवर है, लेकिन अगर सांस रोकने में समस्या होती है या फिर गले में समस्या होती है तो इसे गंभीरता से लें

Whatsapp पर शेयर करें

Comments are closed.