क्या दुआ-ए-फ़र्सूदा हर्फ़-ए-बे-असर माँगूँ, तिश्नगी में जीने का अब कोई हुनर माँगूँ

0

Third party image reference

क्या दुआ-ए-फ़र्सूदा हर्फ़-ए-बे-असर माँगूँ ।

तिश्नगी में जीने का अब कोई हुनर माँगूँ ।

धूप धूप चल कर भी जब थके न हम-राही ।

कैसे अपनी ख़ातिर मैं साया-ए-शजर माँगूँ ।

आइना-नवाज़ी से कुछ नहीं हुआ हासिल ।

ख़ुद बने जो आईना अब वही हुनर माँगूँ ।

Third party image reference

Third party image reference

Third party image reference

इक तरफ़ तअ’स्सुब है इक तरफ़ रिया-कारी ।

ऐसी बे-पनाही में क्या सुकूँ का घर माँगूँ ।

मेरी ज़िंदगी में जो बट न जाए ख़ानों में ।

मिल सके तो मैं ऐसा कोई बाम-ओ-दर माँगूँ ।

लम्हा लम्हा तेज़ी से अब ज़मीं खिसकती है ।

Third party image reference

Third party image reference

Third party image reference

ख़ुद सफ़र का आलम है क्या कोई सफ़र माँगूँ ।

बे-तलब ही देता है जब ‘ज़हीर’ वो सब कुछ ।

किस लिए मैं फिर उस से जिंस-ए-मो’तबर माँगूँ ।

दोस्तों अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आए तो लाइक और कमेंट करना ना भूलें क्योंकि हम आपके लिए ऐसी ही रोचक भरी जानकारियां सबसे पहले लाते रहेंगे। दोस्तों जिन्दगी से संबंधित न्यूज़ को पढ़ना पसंद करते हैं तो आप हमें फॉलो कर सकते हैं। अगर आप इसी प्रकार के आर्टिकल पढ़ना चाहते है तो आप हमारे चैनल को फाॅलो अवश्य करें धन्यवाद।

Whatsapp पर शेयर करें

Leave A Reply

Your email address will not be published.