गुणों के सहारे ही व्यक्ति सफल हो पाता है मगर विनय और, विवेक साथ हो तो शिखर छू जाता है

0

Third party image reference

इस दुनिया में जिंदगी के मोड़ पर वक़्त तो हमेशा खामखां ही बदनाम है,

जबकि दुनिया की सच्चाई तो यह है कि हमेशा बदलता तो सिर्फ इंसान है।

जरा सा लोग दिल में आ जाए तो मक्कारी के लिए कुछ भी कर जाते हैं और

यहाँ फिर खुद को ऐसा जताते फिरते हैं जैसे कि अभी वह बहुत अनजान है।

जब आप सहर्ष वही बने रहने पर राजी होते हैं, जो

आप हैं और तुलना, प्रतिस्पर्धा में नहीं पड़ते हैं, तो

सभी आपका सम्मान करते हैं औरआपको इज्जत देते हैं।

गुणों के सहारे ही व्यक्ति सफल हो पाता है मगर विनय और,

विवेक साथ हो तो शिखर छू जाता है।

Third party image reference

जब हम अकेले हों तब अपने विचारों को संभालें और,

जब हम सबके बीच हों तब अपने शब्दों को संभालें

हमेशा याद रखें कि क्रोध एक ऐसी अग्नि है जो दूसरों का नाश करें या ना करें,

लेकिन स्वयं का विनाश जरूर करती है।

इस जहां में इंसान को सब चीज मिल

जाती है बस अपनी स्वयं की गलती नहीं मिलती,

जिस प्रकार लोभ और लालच के लिए बिकने वाली स्वार्थी और,

मतलब परस्त इंसान का दुनिया में कोई वजूद नहीं होता।

Third party image reference

दोस्तों अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आए तो लाइक और कमेंट करना ना भूलें क्योंकि हम जिंदगी के बारे में इसी तरह के सकारात्मक विचार लाते रहेंगे। दोस्तों इसी तरह की पोस्ट आगे भी पाने के लिए हमें फॉलो जरूर करें धन्यवाद।

Whatsapp पर शेयर करें

Leave A Reply

Your email address will not be published.