जब मेट्रो में कैद हुईं अजीबोगरीब मास्क पहने लोगों की ऐसी फोटोज.. देखकर हंसी कंट्रोल करना मुश्किल

मेट्रो (Subway) में तो वैसे ही अक्सर मजेदार नजारे देखने को मिलते हैं लेकिन जबसे कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रसार हुआ है, लोगों ने और भी अजीबो-गरीब हरकतें करनी शुरू कर दी हैं. भारत में ही आप मास्क न होने पर लोगों को कान से झोले (bag) की डोरी लटकाकर चलते हुए पा जायेंगे. लेकिन पूरी दुनिया में लोगों ने और और भी फनी तरीके से अपनी-अपनी क्रिएटिविटी का परिचय दिया है. ताकि वे खुद को कोरोना वायरस के प्रसार (Coronavirus Spread) से सुरक्षित रख सकें.


ऐसे ही कुछ बेहतरीन मास्क (mask) के प्रयोगों को हम आप तक लाये हैं. मेट्रो (metro) में मास्क पहनने के इन यूनीक तरीकों को @SubwayCreatures ने अपने इंस्टाग्राम पेज (Instagram Page) पर पोस्ट किया है-
इन्हें देखिये चेहरे पर बॉटल ओढ़े इस शख्स ने न मास्क का प्रबंध कर लिया है बल्कि अपनी शक्ल न दिखाकर इस बात की संभावना भी बना ली है कि कोई उससे बातचीत न कर सके और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी होता रहे.इन महाशय ने यूं तो सिंपल सर्जिकल मास्क लगा रखा है लेकिन जो आंखों पर पट्टा पहना है वह किसी आम इंसान को डराने के लिए काफी है. शायद इनका भी यही फंडा रहा होगा कि इनके डर से कोई इनके नजदीक आने की कोशिश नहीं करेगा और ये कोरोना को फैलने से रोक सकेंगे.कुछ लोग अपनी सुरक्षा को लेकर ज्यादा ही एहतियात बरतते हैं, ये इंसान भी ऐसा ही है. जब डॉक्टरों ने कहा हो कि आंखों से भी कोरोना वायरस शरीर में प्रवेश कर सकता है तो आंखों को भी कवर करना जरूरी है न. ऐसे में इन्होंने उसे चारों ओर से ब्लॉक कर रखा है.कई बार मास्क में सांस लेना मुश्किल हो जाता है. घुटन होने लगती है. इन्होंने इसका इलाज निकाल लिया है. एक छाते को अपने ऊपर ओढ़कर खुद को बचा रहे हैं और आराम से सांस ले रहे हैं. वाह क्या खूब क्रियेटिविटी का परिचय दिया है.यूं तो इन्होंने एक मजेदार फेसशील्ड पहन रखी है लेकिन किसी को यह शक भी हो सकता है कि ये हैलोवीन सेलिब्रेट कर रहे हैं.ये कुछ खास है. जैसा समझ आ रहा है, उसके मुताबिक इन्होंने अपने मुंह पर कोई कारपेट जैसी चीज ओढ़ ली है और क्यों न ओढ़ें, अगर मास्क नहीं हो तो क्या सुरक्षा से समझौता कर लिया जाये?ये महिला भी अपनी सुरक्षा को लेकर कुछ ज्यादा ही चिंतित हैं. इन्होंने एक स्पेशल फेस शील्ड पहनी हुई है. इसे पहने हुए ये ऐसी लग रही हैं, जैसे कोई सुपरहीरो हों और सीधे किसी कॉमिक्स से निकलकर मेट्रो में चली आई हों.फेसमास्क घर पर ही रह गया लेकिन सुरक्षा से समझौता नहीं किया जा सकता. इसलिए इन्होंने अपने मुंह पर पत्ती लगा ली है. आखिर जान है तो जहान है.मास्क बनाना कोई बहुत मुश्किल काम नहीं है. आप किसी कागज के टुकड़े को भी मास्क की तरह यूज कर सकते हैं लेकिन शायद ये भूल गये कि जिस तरह से इन्होंने अपनी रक्षा करने की कोशिश की है, उसमें मास्क के नीचे से खुला रह जाने के चलते थोड़ी चूक रह गयी है

कोई इन्हें प्लीज ये बता दे कि कोरोना से सिर्फ बचना था, उसे डरा कर मारना नहीं था.

Comments are closed.