नौकरी के लिए अभ्यार्थियों का हिंसक प्रदर्शन, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले, इंटरनेट कराया बंद

राजस्थान के NH-8 पर पिछले दो दिनों से जमकर बवाल मचा हुवा है। यहां शिक्षक भर्ती-2018 में टीएसपी क्षेत्र के अनारक्षित पदों पर भर्ती की मांग को लेकर यहां पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच जबरदस्त हिंसा हुई। उपद्रवियों ने हाईवे पर कुछ होटलों और पेट्रोल पंप में तोड़फोड़ की, वहां लगे सीसीटीवी कैमरे तोड़ दिए। पेट्रोल पंप पर खड़े टैंकर में आग लगा दी। वहीँ पुलिस ने भीड़ को खदेड़ने के लिए रबर की गोलियां चलाई हैं। लेकिन प्रदर्शनकारी लगातार पुलिस पर पहाड़ी से पथराव कर रहे हैं। प्रदर्शनकारी अपनी मांगों को लेकर 7 सितम्बर से ही कांकरी डूंगरी पहाड़ी पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

राजस्थान का आदिवासी बहुल इलाका डूंगरपुर पिछले दो दिनों से एक बड़े आन्दोलन का केंद्र बना रहा। जगह-जगह जमकर तोड़फोड़, आगजनी और पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच पथराव की घटनाएं रुक-रुक कर पिछले दो दिनों से हो रही है। प्रदर्शनकारी रबड़ की गुलेल से पुलिस वालों पर ऊपर पहाड़ियों पर बैठकर हमला कर रहे हैं। पुलिस की गाड़ियां उनके निशाने पर है। नतीजा एसपी की गाड़ी सहित 10 सरकारी वाहन आन्दोलनकारियों ने अब तक फूंक डाले। यही नहीं इस गुलेल से पहाड़ियों की छोटी पर बैठकर पत्थरबाजी कर रहे इन लोगों के हमले में एएसपी, डीएसपी, थानेदार समेत 11 पुलिसकर्मी घायल हो गए।

दूसरी तरफ पुलिस द्वारा उन पर रबड़ की गोलियां और आंसी गैस चलाकर उन्हें तितर-बितर करने की कोशिश की, जिसने की इन लोगों को और भी भड़का दिया। गुसाई भीड़ ने जब उदयपुर-अहमदाबाद की ओर जाने वाली नेशनल हाईवे- 8 पर कब्जा कर लिया तो जयपुर में बैठी सरकार को भी पूरी तरह हिलाकर रख दिया। गुस्साए आन्दोलनकारियों ने पेट्रोल पम्प सहित कई दुकानों और गाड़ियों में भी आग लगा दी। चूंकि राजस्थान में कांग्रेस सत्ता में है ऐसे में जब जयपुर पहुंचे कांग्रेस के नए राष्ट्रिय महासचिव रणदीप सुरजेवाला से सवाल किया गया तो उन्होंने शांति बरतकर वार्ता के लिए आगे आने की आन्दोलनकारियों की अपील कर दी। जबकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी एक ट्वीट करने शांति बनाए रखने की बात कही है।  

Whatsapp पर शेयर करें

Whatsapp पर शेयर करें

Comments are closed.