राजस्‍थान में पुजारी की हत्या का मामला, परिजनों का अंतिम संस्कार करने से इनकार

  

राजस्थान में एक पुजारी की हत्या ने अशोक गहलोत सरकार की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं। पुजारी के परिवार ने कहा है कि वे अंतिम संस्कार तब तक नहीं करेंगे, जब तक कि मांग पूरी नहीं हो जाती। परिवार ने सरकार से 50 लाख मुआवजे और सरकारी नौकरी की मांग की।

पुजारी की पहचान बाबूलाल वैष्णव के रूप में हुई है। परिवार ने कहा है कि आरोपियों का समर्थन करने वाले पटवारी और पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने गहलोत सरकार से भी सुरक्षा मांगी है।

पुजारी के परिवार ने कहा, “जब तक हमारी मांग पूरी नहीं होती, हम शव का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। हम 50 लाख रुपये का मुआवजा और सरकारी नौकरी चाहते हैं। सभी आरोपियों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए और पटवारी और पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए जो अभियुक्तों का समर्थन कर रहे हैं।” इस बीच, AAP के संजय सिंह ने इस घटना की निंदा की और कहा कि दोषियों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए। मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है।

राजस्थान में पुजारी की हत्या

राजस्थान के करौली जिले के बापना गांव, सपोटरा में कुछ लोगों द्वारा आग लगाने के बाद मंदिर के पुजारी बाबूलाल वैष्णव की मृत्यु हो गई। गंभीर हालत में जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल के लिए रेफर किए जाने के बाद उन्होंने गुरुवार रात को दम तोड़ दिया। करौली के एसपी मृदुल कछवा के अनुसार, पुजारी ने अस्पताल में पुलिस को एक बयान दिया कि कैलाश मीणा और उनके बेटों सहित कुछ प्रभावशाली लोगों ने मंदिर की जमीन को अतिक्रमण करने की कोशिश की।

अपने मरने से पहले पुजारी ने कथित तौर पर कहा कि आरोपी ने उस पर पेट्रोल फेंक दिया और उसे आग लगा दी। कैलाश मीणा को गिरफ्तार कर लिया गया है जबकि पुलिस ने मामले की जांच के लिए 6 टीमों का गठन किया है।

पुजारी की हत्या से मची खलबली

राजस्थान सरकार को निशाने पर लेते हुए राज्य के भाजपा प्रमुख सतीश पूनिया ने पुजारी की हत्या के लिए कानून और व्यवस्था की स्थिति के पतन को जिम्मेदार ठहराया है। उन्‍होंने दावा किया कि प्रदेश में अपराधियों को कानून का कोई डर नहीं है। राजस्थान पुलिस की पंचलाइन ‘अपराधी मस्त, जनता त्रस्‍त’ में बदल गई है।

वैष्णव की मौत पर राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने आश्वासन दिया कि पीड़ित परिवार को सुरक्षा प्रदान की जाएगी और अतिक्रमणकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यह भी बताया कि पुजारी के परिजनों की मांगों पर चर्चा की जाएगी।

इस बीच, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने वैष्णव की हत्या की निंदा करते हुए कहा कि हिंसा के लिए कोई सहिष्णुता नहीं हो सकती। उन्होंने मंदिर के पुजारी के प्रियजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की। यह दोहराते हुए कि मामले के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है, उन्‍होंने वादा किया कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

    Comments are closed.