स्विमिंग पूल में किसी ने पेशाब की है या नहीं, इस आसान तरीके से पता लगाएं

स्विमिंग पूल में नहाने का शौक लगभग हर किसी को होता है। खासकर गर्मी के दिनों में इसके अंदर नहाकर बहुत आनंद आता है। जो लोग अमीर होते हैं उनके घर अपना खुद का स्विमिंग पूल होता है। हालांकि मिडिल क्लास लोग स्विमिंग पूल के मजे लेने के लिए पब्लिक स्विमिंग पूल में जाते हैं। वहीं कुछ वाटर पार्क में जाकर नहाना भी पसंद करते हैं।

रोज सैकड़ों लोग नहाते हैं

आजकल हर छोटे बड़े शहर में वाटर पार्क जरूर होता है। इस वाटर पार्क में पानी वाली स्लाइड के साथ स्विमिंग पूल भी होते हैं। अब इन पब्लिक स्विमिंग पूल में सबसे बड़ी दिक्कत यह होती है कि इनमें नहाने के लिए रोजाना हजारों लोग आते हैं। ऐसे में किसी के द्वारा इस स्विमिंग पूल में पेशाब (यूरिन) कर देने की संभावना भी होती है।

इसलिए स्विमिंग पूल में लोग करते हैं पेशाब

सभ्य लोग तो ऐसा करने से बचते हैं, लेकिन कुछ शरारती लोग ऐसा जानबूझकर करते हैं। वहीं कुछ कंट्रोल न हो पाने के कारण या बाथरूम तक चलकर जाने के आलस के चलते पानी के अंदर ही यूरिन कर देते हैं। फिर स्विमिंग पूल में कई बच्चे भी नहाने आते हैं तो वे तो जरूर इसके अंदर पेशाब करते हैं।

यूरिन का हमेशा रहता है डर

कुल मिलाकर कहे तो स्विमिंग पूल के अंदर दूसरे व्यक्ति की यूरिन होने का वहम हमेशा बना ही रहता है। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसा तरीका बताने जा रहे हैं जिससे आप ये अंदाजा लगा सकते हैं कि किसी ने स्विमिंग पूल के अंदर पेशाब की है या नहीं। इस तरीके से आप स्विमिंग पूल को दूर से ही देख ये अंदाजा लगा पाएंगे कि ये कितना अधिक स्वच्छ है।

ऐसे पता चलता है

दरअसल स्विमिंग पूल वाले खुद ही यूरिन करने वालों की पहचान के इंतजाम करके रखते हैं। ये लोग पानी में ‘यूरीन इंडिकेटर डाई’ नाम का एक केमिकल मिलाते हैं। जब यूरिन इस केमिकल के संपर्क में आता है तो पूल के पानी का रंग बदलकर नीला हो जाता है। इसे कुछ देर बाद ही इसमें बदबू आने लगती है। इसलिए स्विमिंग पूल वालों को फिर फटाफट पानी को बदलना पड़ता है। यदि वे इस पानी को नहीं बदलते तो इसमें से बहुत भयंकर बदबू आने लगती है।

आशा करते हैं कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। कृपया इसे दूसरों के साथ साझा करना न भूले ताकि वे लोग भी स्विमिंग पूल में उतरने से पहले उसकी स्वच्छता की जांच कर लें।

Whatsapp पर शेयर करें

Comments are closed.